गोस्वामी तूलसीदास की जीवनी स्कूली पाठ्यक्रम में अनिवार्य रुप से हो शामिल – प्रो. प्रेम

146
प्रो प्रेम

समस्तीपुर। लॉक डाउन के कारण तुलसी जयंती समारोह रद्द कर रामचरितमानस पाठ कर कालजयी महाकवि गोस्वामी तुलसीदास को श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया। घर- घर मानस, जन -जन मानस” के संकल्प को लेकर जन जन में राम चरित मानस के प्रचार प्रसार के लिए संकल्पित संस्था श्री राम चरित मानस प्रचार संघ के प्रदेश सम्पर्क प्रमुख प्रो प्रवीण कुमार झा प्रेम ने उक्त जानकारी देते हुए दूरभाष पर बताया कि संघ के प्रदेश पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने अपने अपने घरों पर ही सांकेतिक रुप से महाकवि का जयन्ती मनाया और घर घर मानस जन जन मानस अभियान को सफल बनाने का संकल्प दोहराया। प्रो. प्रेम ने बताया कि यह एक मात्र वह महान ग्रंथ हैं, जो इस कलीकाल में मानव मूल्यों के रक्षा में सहायक होगा। इसलिए स्कूली पाठ्यक्रम में पूर्व की तरह गोस्वामी जी की जीवनी और रामचरित मानस को शामिल किया जाना चाहिए। आचार्य संजय शास्त्री के हवाले से उन्होंने कहा कि महाकवि रचित इस ग्रंथ के प्रचार प्रसार में प्रांत के किसी भी हिस्से में जो भी संस्था कार्य कर रही हैं, वहाँ “श्री राम चरित मानस प्रचार संघ “यथा संभव सहयोग करता रहेगा। इस अवसर पर प्रदेश कार्याध्यक्ष सुरेश पासवान, संयुक्त सचिव अविनाश शास्त्री, उपाध्यक्ष डॉ. परमानन्द लाभ डॉ. सत्यनारायण् महतो, डॉ. नारायण यादव, डॉ. ममता झा, राम कुमार कुवँर, अशोक कुमार सिंह, विशिष्ट आमंत्रित सदस्य स्वामी सत्यानंद जी आदि ने अपने अपने घरों पर महाकवि तुलसी दास जी के जयन्ती पर रामचरित मानस पाठ किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here