सीबीएसई ने स्वयं को सम्पूर्ण रूप से पेपरलेस करने का निर्णय ले लिया

328

नई दिल्ली | सूचना प्रौद्योगिकी के जमाने मे जहां हर सरकारी व निजी विभाग अपने आप को तकनीकी रूप से उन्नत बना रहा है वहीं इसी दिशा में सीबीएसई ने भी एक सार्थक पहल की है. अब सीबीएसई ने स्वयं को सम्पूर्ण रूप से पेपरलेस करने का निर्णय ले लिया है. जिससे फाइलें अटकने का झंझट खत्म हो जाएगा क्योंकि अब यह पूरी तरह ऑनलाइन कार्य करेगा. इसके ऑनलाइन होने से अब किसी भी सीबीएसई मान्यता प्राप्त विद्यालय को कागजी फाइलों को लिए हुए सीबीएसई हेडक्वार्टर में भागादौड़ी करने की जरूरत नहीं होगी. स्कूलों से हर तरह के पत्राचार इन्फॉर्मेशन लेने व देने के लिए यह अब पूरी तरह से पेपरलेस होगा.

ई-हरकारा पोर्टल किया विकसित
बोर्ड में सभी कार्य बिना लेटलतीफी के दुरुस्त तरीके से हो सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए ही सीबीएसई ने ई-हरकारा नामक पोर्टल तैयार किया है. जिसमें सभी स्कूल अपनी हर तरह की समस्याएं, इन्फॉर्मेशन, शिकायतें, आवेदन, सुझाव आदि सभी चीजें संबंधित विभागों व क्षेत्रीय कार्यालय को भेज सकने में सक्षम होंगे. अतः इस पोर्टल को अब हर स्कूल के लिए इस्तेमाल करना अनिवार्य बना दिया गया है. साथ ही, सीबीएसई ने यह नोटिस भी निकाल दिया है कि 1 सितंबर के बाद सीबीएसई कोई भी ऑफलाइन या ईमेल पत्राचार स्वीकार नहीं करेगा. अब से सारे काम ई-हरकारा पोर्टल के जरिए ही सम्पन्न होंगे.

वैसे तो सीबीएसई ने स्कूलाें को मान्यता देने सम्बंधित व परीक्षा और एकेडमिक आदि से संबंधित सभी तरह की कार्यवाही पहले ही ऑनलाइन कर दी है. अब ई हरकारा पोर्टल के जरिये बाकी बचे सभी कामों को भी ऑनलाइन कर लिया गया है जिससे बोर्ड अब अधिक जवाबदेही व सक्षम, सरल बन सकेगा. इस कदम से अभिभावकों, छात्रों के साथ बोर्ड को भी समय, धन इत्यादि की बचत का फायदा होगा. इसके साथ ही सूचना व संचार प्रौद्योगिकी को भी बढ़ावा मिलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here