समस्तीपुर के सत्यम को संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सेवा परीक्षा 2019 में 169 वां रैंक

293

संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सेवा परीक्षा 2019 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया है। बिहार के छात्रों का रिजल्ट भी बेहतर रहा है। सूचना प्राप्त होने तक सौ रैंक में राज्य के दस से ज्यादा छात्रों के नम हैं। इसके अलावा कई छात्रों का चयन हुआ है।

बिहार के अलग -अलग जिलों के सफल छात्रों का नाम शामिल है। छोटे शहरों के होनहारों ने भी परचम लहराया है। अब तक यूपीएससी के रिजल्ट में बिहार से लगभग 50 से अधिक छात्रों का चयन हुआ है। इस परीक्षा में भागलपुर के श्रेष्ठ अनुपम को 19वीं रैंक, गोपालगंज के प्रदीप सिंह को 26वीं रैंक हुई है। वर्ष 2018 इसे 93वीं रैंक मिली थी। अभी इनकम टैक्स कमिश्नर के तौर पर कायर्रत था। इसबार रिजल्ट में सुधार करते हुए 26वीं रैंक मिली है। अब डीएम बनने का सपना पूरा हो जाएगा।

सीतामढ़ी के दीपांकर चौधरी को 42वीं रैंक मिली है। इसी तरह ओम कांत ठाकुर 52वीं रैंक मिली। वहीं सारण के आशीष कुमार को 53वीं, दिव्या शक्ति  79 वीं रैंक मिली है। इसी जिले के गड़खा स्थित केवानी गांव की अन्नपूर्णा सिंह को 194 वीं रैंक मिली है। मधुबनी के मुकुंद को 54वीं रैंक हासिल हुई है। पटना के प्रियांक किशोर को 61वीं रैंक हासिल हुई है।

बक्सर के अंशुमन राज 107 वीं रैंक, जहानाबाद की डॉक्टर हर्षा प्रियंवदा को 165वीं रैंक मिली। हर्षा प्रियंवदा ने 2018 मे पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की है। उन्होंने अपने प्रथम प्रयास में ही यूपीएससी में सफलता प्राप्त की है। समस्तीपुर के सत्यम 169 वां रैंक मिली है। इसके अलावा औरंगाबाद के विकास सिंह को 203वीं रैंक प्राप्त हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here