Home SAMASTIPUR नेहरू युवा केंद्र समस्तीपुर के प्रथम युवा समन्वयक शशिकांत चौधरी...

नेहरू युवा केंद्र समस्तीपुर के प्रथम युवा समन्वयक शशिकांत चौधरी का निधन

230

#प्रथम जिला युवा समन्वयक मा. शशिकांत चौधरी जी के निधन#

नेहरू युवा केंद्र, समस्तीपुर से सम्बद्ध युवा मंडल जवाहर ज्योति बाल विकास केंद्र, अख्तियारपुर, सरायरंजन, समस्तीपुर के पंजीकृत कार्यालय, अख्तियारपुर में नेहरू युवा केंद्र, समस्तीपुर के स्थापना काल के प्रथम जिला युवा समन्वयक मा. शशिकांत चौधरी जी के निधन पर फिज़िकल डिस्टेंस का पालन करते हुए जवाहर ज्योति बाल विकास केन्द्र के कार्यकर्ताओं के द्वारा शोक सभा का आयोजन किया गया। शोक सभा को संबोधित करते हुए संस्था के संस्थापक सचिव सुरेन्द्र कुमार नें कहा कि जिला के सुदूर अख्तियारपुर गांव में 15 अगस्त, 1986 को गांव के किशोर नौजवानों द्वारा गठित बाल विकास संघ को 1988 में युवा मंडल के रूप में संगठित करने में तत्कालीन जिला युवा समन्वयक मा. शशिकान्त चौधरी जी की महत्वपूर्ण भुमिका को भुलाया नहीं जा सकता है। आज का जवाहर ज्योति बाल विकास केन्द्र का जो भी सामाजिक गतिविधि है उसके आधार स्तम्भ चौधरी जी ही हैं। समस्तीपुर में नेहरू युवा केंद्र की स्थापना काल से 1995 तक शशिकांत चौधरी नेहरू युवा केन्द्र, समस्तीपुर के जिला युवा समन्वयक रहे। समस्तीपुर के सुदूर गांवों टोलों में जाकर नेहरू युवा केंद्र के उद्देश्यों से युवाओं एवं समाज के लोगों को जागरूक करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। आज समस्तीपुर जिला में उनके कार्यकाल में गठित कई युवा मंडल, महिला मंडल अपनी पहचान बनाए हुए हैं। श्रद्धेय चौधरी के निधन से नेहरू युवा केंद्र संगठन नें एक अच्छा संगठनकर्ता खो दिया है। शोक सभा में इस पंचायत के पंचायत समिति सदस्य नीलम देवी, मुखिया लालनारायण पासवान, सरपंच शिवशंकर पासवान, गंगसारा पंचायत के पंचायत समिति सदस्य संजीव कुमार, राष्ट्र सेवा दल की मनीषा कुमारी व सुरेश ठाकुर, असंगठित खेतिहर मजदूर पंचायत के संयोजक रविन्द्र पासवान, ग्राम विकास समिति के बलराम चौरसिया व वीभा, अर्चना, समाजवादी महिला सभा की वीणा, किरण, ललिता, सुपरवाईजर दिनेश प्रसाद चौरसिया, रामप्रित चौरसिया एवं अध्यक्ष गौरीशंकर चौरसिया, रामलखन पंडित, किसलय झा, अर्चना कुमारी आदि उपस्थित थे। संस्था के अध्यक्ष गौरी शंकर चौरसिया नें कहा कि चौधरी जी के प्रयास से हीं 1992 में संस्था का क्लब भवन और रोजगार सृजन के लिए तीस युवतियों को सिलाई का प्रशिक्षण दिया गया था। जो आज भी मिशाल है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here